स्वचालित व्यापार

इक्विटी सूचकांक

इक्विटी सूचकांक
शेयर बाजार का फायदा यहां मिलेगा

Nifty 50 ETF: निवेश के लिए एक बेहतर तरीका

कई निवेशक जिन्हें इक्विटी के बारे में पूरी समझ नहीं हैं, वे अक्सर आश्चर्य करते हैं कि सही निवेश के मौके आने पर शुरुआत कैसे करें। लोग इक्विटी की ओर आमतौर पर इसलिए आकर्षित होते हैं, क्योंकि इसमें लंबी अवधि में मुद्रास्फीति को पछाड़ने की संभावना होती है।

Published: November 11, 2022 10:29:32 am

कई निवेशक जिन्हें इक्विटी के बारे में पूरी समझ नहीं हैं, वे अक्सर आश्चर्य करते हैं कि सही निवेश के मौके आने पर शुरुआत कैसे करें। लोग इक्विटी की इक्विटी सूचकांक ओर आमतौर पर इसलिए आकर्षित होते हैं, क्योंकि इसमें लंबी अवधि में मुद्रास्फीति को पछाड़ने की संभावना होती है। इसके अलावा, हमारे सभी लक्ष्यों को हासिल करने के लिए इक्विटी एक्सपोजर के तत्व की आवश्यकता होती है, चाहे वह म्यूचुअल फंड के माध्यम से हो या सीधे स्टॉक या इन दोनों के मिले जुले माध्यम से हो। लेकिन, अगर आप इक्विटी में नए हैं और सीधे शेयरों के साथ शुरुआत करना चाहते हैं, तो निवेश करने के लिए सही कंपनी पर निर्णय लेना आसान नहीं है और इससे पहले आपको कंपनी की वित्तीय स्थिति, उसकी व्यावसायिक संभावनाओं, वैल्यूएशन, उद्योग की गतिशीलता, बाजार की स्थितियों आदि को समझने की जरूरत है। यहां पर निफ्टी 50 ईटीएफ सामने आता है। ईटीएफ, जो एक विशिष्ट सूचकांक को ट्रैक करता है, इससे एक्सचेंजों पर स्टॉक की तरह कारोबार किया जाता है, लेकिन इसे एक म्यूचुअल फंड हाउस द्वारा ऑफर किया जाता है।

Nifty 50 ETF: निवेश के लिए एक बेहतर तरीका

बहुत कम राशि में भी एक्सपोजर
ऐसे निवेशकों के लिए निफ्टी 50 ईटीएफ बहुत कम राशि में भी एक्सपोजर देगा। ईटीएफ की एक यूनिट को आप कुछ सौ रुपए में खरीद सकते हैं। उदाहरण के लिए, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल निफ्टी 50 ईटीएफ एनएसई पर 185 रुपए की कीमत पर ट्रेड करता है। इस प्रकार आप 500 से 1000 रुपए तक का निवेश कर सकते हैं और एक्सचेंज से निफ्टी 50 ईटीएफ की इकाइयां खरीद सकते हैं। आप हर महीने व्यवस्थित निवेश भी कर सकते हैं। ऐसा करने से आप बाजार के सभी स्तरों पर खरीदारी करेंगे और आपके निवेश की लागत औसत होगी। आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल निफ्टी 50 ईटीएफ का ट्रैकिंग एरर, जो किसी अंतर्निहित इंडेक्स से फंड रिटर्न के विचलन का एक पैमाना है - 0.03 फीसदी है, जो निफ्टी 50 ईटीएफ यूनिवर्स में सबसे कम है। सीधे शब्दों में कहें तो यह संख्या जितना कम है, उतना बेहतर।

सबसे बड़ी भारतीय कंपनियां होती है शामिल
निफ्टी 50 इंडेक्स में बाजार पूंजीकरण के मामले में सबसे बड़ी भारतीय कंपनियां शामिल हैं। इसलिए, निफ्टी 50 ईटीएफ में निवेश एक निवेशक के लिए शेयरों और सेक्टर्स में उम्दा विविधीकरण प्रदान करता है, क्योंकि यह सूचकांक की राह पर चलता है। आप बाजार समय के दौरान एक्सचेंजों से ईटीएफ के यूनिट्स खरीद और बेच सकते हैं। इस संबंध में, निफ्टी 50 ईटीएफ पहली बार स्टॉक निवेशकों के लिए और सामान्य रूप से अपनी इक्विटी यात्रा शुरू करने वालों के लिए एक स्टार्टिंग पॉइंट में से एक है। एक विविध पोर्टफोलियो किसी निवेशक के लिए जोखिम को कम करता है, जो कि किसी स्टॉक में निवेश करने के मामले में नहीं होता है, क्योंकि यहां बाजार में आने वाला उतार-चढ़ाव कंपनियों के एक बास्केट की तुलना में किसी एक स्टॉक की कीमत को अधिक प्रतिकूल रूप से प्रभावित कर सकता है। साथ ही, निफ्टी 50 ईटीएफ में निवेश से मिलने वाला रिटर्न अंतर्निहित सूचकांक में उतार-चढ़ाव की नकल करेगा। केवल ईटीएफ में निवेश करने के लिए आपको एक डीमैट खाते की आवश्यकता पड़ती है, जिनके पास डीमैट खाता नहीं है वे निफ्टी 50 इंडेक्स फंड में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं।

शिक्षा सूचकांक में मलाया ने फिर हासिल किया सबसे निचला रैंक

सूचकांक सोमवार को थिंक-टैंक, ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन द्वारा जारी एक पेपर में प्रकाशित किया गया था। पेपर का शीर्षक था "पीआईई इंडेक्स 2020-2: भारत में प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा प्रणालियों के स्वास्थ्य को मापना"।

सूचकांक को प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा प्रणाली के स्वास्थ्य को मोटे तौर पर तीन मापदंडों - प्रदर्शन, बुनियादी ढांचे और इक्विटी पर मापने के लिए विकसित किया गया था।

इसने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी) को तीन श्रेणियों में विभाजित किया - बड़े राज्य, छोटे राज्य और केंद्र शासित प्रदेश। छोटे राज्यों में, सिक्किम और गोवा ने शीर्ष रैंक हासिल की, जबकि मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में सबसे कम रैंक थी।

त्रिपुरा जैसे कुछ राज्यों में, केवल 20% स्कूलों में बिजली की पहुंच थी। पेपर ने कहा कि बिहार और मेघालय में, काम करने वाले कंप्यूटरों का अनुपात केवल 15% है।

केंद्र शासित प्रदेशों ने सबसे अच्छा प्रदर्शन किया जबकि छोटे राज्यों को सबसे कम स्थान दिया गया। शिक्षा मंत्रालय का अपना उपकरण है - प्रदर्शन ग्रेडिंग इंडेक्स या पीजीआई।

पीआईई इंडेक्स में, पंजाब सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग वाले बड़े राज्य के रूप में उभरा। इसके बाद केरल और तमिलनाडु का नंबर आता इक्विटी सूचकांक है। सबसे खराब प्रदर्शन करने वाले बड़े राज्य उत्तर प्रदेश और बिहार थे। केंद्र शासित प्रदेशों में, लक्षद्वीप, पुडुचेरी और चंडीगढ़ ने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया।

पीआईई इंडेक्स का उपयोग 2016-17 से 2020-21 तक शिक्षा में बदलाव को ट्रैक करने के लिए किया गया है। पेपर ने कहा कि सीखने इक्विटी सूचकांक के परिणामों, बुनियादी ढांचे और इक्विटी पर ध्यान दिया जाना चाहिए।

"राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को निजी और सरकारी स्कूलों, लड़कों और लड़कियों इक्विटी सूचकांक की शिक्षा और ग्रेड में जाति-आधारित अंतर के बीच की खाई को पाटने की दिशा में प्रयास करना चाहिए। यह सुनिश्चित करने के लिए सकारात्मक कार्रवाई की जरूरत है कि छात्राओं और अन्य हाशिए पर रहने वाले समूह पीछे न रहें, "पेपर ने कहा।

इसने आगे कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी), 2020 से शिक्षा क्षेत्र में पर्याप्त सुधार की उम्मीद है और "देश भर में सीखने के परिणामों को अनुकूल रूप से प्रभावित इक्विटी सूचकांक कर सकता है"।

अखबार ने कहा, "एनईपी ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के माध्यम से पहुंच और इक्विटी बढ़ाने का भी प्रयास करता है, जिसका इक्विटी पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।"

पीआईई इंडेक्स को परिणामों और प्रक्रियाओं दोनों के दृष्टिकोण से विकसित किया गया है। हालांकि, यह उपस्थिति, शिक्षक उपलब्धता और पारदर्शिता जैसे परिणामों की सहायता करने वाली शासन प्रक्रियाओं में कारक नहीं है।

पीआईई इंडेक्स प्रदर्शन और इक्विटी सब-इंडेक्स के लिए नेशनल अचीवमेंट सर्वे (एनएएस 2021) और इंफ्रास्ट्रक्चर सब-इंडेक्स को मापने के लिए यूनिफाइड डिस्ट्रिक्ट इंफॉर्मेशन सिस्टम फॉर एजुकेशन (यूडीआईएसई 2020-21) के डेटा का उपयोग करता है।

स्कूल प्रणाली के प्रदर्शन का मूल्यांकन करने के लिए अंग्रेजी और गणित के अंकों का उपयोग किया गया था। कक्षा 3, 5 और 8 में हाशिए के समुदायों के छात्रों के सीखने के परिणामों में अंतर - लिंग, जाति, स्कूल के प्रकार के आधार पर - समानता को मापने के लिए माना गया। पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग-अलग शौचालयों की उपलब्धता, पीने का पानी, बिजली के साथ कक्षाएं और काम करने वाले कंप्यूटर यूडीआईएसई के डेटा के साथ बुनियादी ढांचे के उप-सूचकांक के लिए विचार किए गए कारक थे।

यह सूचकांक राज्य-स्तरीय नीति निर्माताओं को इस संदर्भ में अंतर्दृष्टि प्रदान करेगा कि वे अपने सिस्टम को कैसे सुधार सकते हैं जो डेटा-संचालित तरीके से एनईपी के कार्यान्वयन के दौरान सहायक हो सकता है।

Stock market update: हरे रंग में इक्विटी सूचकांक, 700 अंकों से ज्यादा उछला सेंसेक्स

Stock market update: इक्विटी मार्केट में तेजी जारी रहने से सेंसेक्स में 700 अंकों से ज्यादा उछाल आते हुए देखा गया.

Updated: October 4, 2021 3:12 PM IST

stock market share market bse sensex

Stock market update: भारत के प्रमुख इक्विटी इंडेक्स, एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स और एनएसई निफ्टी50 ने सोमवार की सुबह के कारोबारी सत्र के दौरान हरे रंग में कारोबार किया. दो प्रमुख सूचकांकों में अंतर खुला और बाजार में तेजी बरकरार रही. सेक्टर के हिसाब से टेलीकॉम, हेल्थकेयर, आईटी और बैंकों को सबसे ज्यादा फायदा हुआ, जबकि मेटल्स को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ.

Also Read:

नतीजतन, 30-अंकों का संवेदनशील सूचकांक 59,513.83 स्तर पर सुबह 10.50 बजे, 748.25 अंक या 1.27 प्रतिशत से ऊपर इक्विटी सूचकांक कारोबार किया.

सेंसेक्स अपने पिछले बंद 58,765.58 अंक से 59,143 अंक पर खुला.

इसके अलावा एनएसई निफ्टी50 211.90 अंक यानी 1.21 फीसदी की तेजी के साथ 17,743.95 अंक पर कारोबार कर रहा है.

यह अपने पिछले बंद 17,532.05 अंक से 17,615.55 अंक पर खुला.

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के रिटेल रिसर्च के प्रमुख दीपक जसानी ने कहा, “एशियाई बाजारों में मिले-जुले संकेत मिलते रहे और भारत आज तक सबसे बेहतर प्रदर्शन करने वालों में से एक है.”

“निफ्टी में बाद में दिन में कुछ समेकन या मामूली सुधार की उम्मीद की जा सकती है.”

कैपिटल वाया ग्लोबल रिसर्च के शोध प्रमुख गौरव गर्ग के अनुसार, “हमारे शोध से पता चला है कि 17,700 संभावित प्रतिरोध बिंदुओं के रूप में कार्य करेंगे जबकि समर्थन 17,450 के स्तर के आसपास आ सकता है.”

“अगर बाजार 17,700 के स्तर को तोड़ता है, तो हम बाजार के 17,800-17,900 के स्तर तक कारोबार करने की उम्मीद कर सकते हैं.”

(With IANS Inputs)

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Investment Tips: शेयर बाजार में नए हैं तो यह हो सकता है निवेश के लिए एक बेहतर तरीका

आम निवेशक (Investor) भी इक्विटी (Equity) की ओर आमतौर पर इसलिए आकर्षित होते हैं, क्योंकि इसमें लंबी अवधि में इंफ्लेशन (Inflation) को पछाड़ने की संभावना होती है। इसके अलावा, हमारे सभी लक्ष्यों को हासिल करने के लिए इक्विटी एक्सपोजर (Equity Exposure) के तत्व की आवश्यकता होती है।

The benefit of the stock market will be available here

शेयर बाजार का फायदा यहां मिलेगा

हाइलाइट्स

  • आप शेयर बाजार में नए हैं
  • आपको समझ में नहीं आ रहा है कि कहां से शुरूआत करें
  • तो हम आपको बता रहे हैं निवेश का बेहतर तरीका

शेयरों में निवेश से पहले जरूरी होती है कुछ जानकारी
शेयरों में निवेश से पहले आपको कंपनी की वित्तीय स्थिति, उसकी व्यावसायिक संभावनाओं, वैल्यूएशन, उद्योग की गतिशीलता, बाजार की स्थितियों आदि को समझने की जरूरत है। यहां पर निफ्टी 50 ईटीएफ (Exchange Traded Fund) इक्विटी सूचकांक सामने आता है। ईटीएफ, जो एक विशिष्ट सूचकांक को ट्रैक करता है, इससे एक्सचेंजों पर स्टॉक की तरह कारोबार किया जाता है, लेकिन इसे एक इक्विटी सूचकांक म्यूचुअल फंड हाउस द्वारा ऑफर किया जाता है। आप बाजार समय के दौरान एक्सचेंजों से ईटीएफ के यूनिट्स खरीद और बेच सकते हैं। इस संबंध में, निफ्टी 50 ईटीएफ पहली बार स्टॉक निवेशकों के लिए और सामान्य रूप से अपनी इक्विटी यात्रा शुरू करने वालों के लिए एक स्टार्टिंग पॉइंट में से एक है।

निफ्टी 50 ईटीएफ हो सकता है मददगार
ऐसे निवेशकों के लिए निफ्टी 50 ईटीएफ बहुत कम राशि में भी एक्सपोजर देगा। ईटीएफ की एक यूनिट को आप कुछ सौ रुपये में खरीद सकते हैं। उदाहरण के लिए, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल निफ्टी 50 ईटीएफ एनएसई पर 185 रुपये की कीमत पर ट्रेड करता है। इस प्रकार आप 500-1000 रुपये तक का निवेश कर सकते हैं और एक्सचेंज से निफ्टी 50 ईटीएफ की इकाइयां खरीद सकते हैं। आप हर महीने व्यवस्थित निवेश भी कर सकते हैं। ऐसा करने से आप बाजार के सभी स्तरों पर खरीदारी करेंगे और आपके निवेश की लागत औसत होगी। आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल निफ्टी 50 ईटीएफ का ट्रैकिंग एरर, जो किसी अंतर्निहित इंडेक्स से फंड रिटर्न के विचलन (deviation) का एक पैमाना है - 0.03% है, जो निफ्टी 50 ईटीएफ यूनिवर्स में सबसे कम है। सीधे शब्दों में कहें तो यह संख्या जितना कम है, उतना बेहतर।

निफ्टी 50 में कौन कंपनी
निफ्टी 50 इंडेक्स में बाजार पूंजीकरण (market capitalization) के मामले में सबसे बड़ी भारतीय कंपनियां शामिल इक्विटी सूचकांक हैं। इसलिए, निफ्टी 50 ईटीएफ में निवेश एक निवेशक के लिए शेयरों और सेक्टर्स में उम्दा डाइवर्सिफिकेशन (excellent diversification) प्रदान करता है क्योंकि यह सूचकांक की राह पर चलता है।

डाइवर्सिफाइड पोर्टफोलियो क्यों है जरूरी
एक डाइवर्सिफाइड पोर्टफोलियो (diversified portfolio) किसी निवेशक के लिए जोखिम को कम करता है। यह किसी स्टॉक में निवेश करने के मामले में नहीं होता है, क्योंकि यहां बाजार में आने वाला उतार-चढ़ाव कंपनियों के एक बास्केट की तुलना में किसी एक स्टॉक की कीमत को अधिक प्रतिकूल रूप से प्रभावित कर सकता है। साथ ही, निफ्टी 50 ईटीएफ में निवेश से मिलने वाला रिटर्न अंतर्निहित सूचकांक (underlying index) में उतार-चढ़ाव की नकल करेगा। केवल ईटीएफ में निवेश करने के लिए आपको एक डीमैट खाते की आवश्यकता पड़ती है। जिनके इक्विटी सूचकांक पास डीमैट खाता नहीं है वे निफ्टी 50 इंडेक्स फंड में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं।

निवेश सस्ता
निफ्टी 50 ईटीएफ में निवेश अपेक्षाकृत सस्ता पड़ता है। चूंकि ईटीएफ निफ्टी 50 इंडेक्स को निष्क्रिय रूप से (passively) ट्रैक करता है। साथ ही इंडेक्स घटकों (constituents) में सीमित या कोई मंथन नहीं होता है। इसलिए, इसकी लागत कम होती है।

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के दौरान इक्विटी निवेशकों की संपत्ति 25.46 लाख करोड़ रुपये बढ़ी

Equity Investors Assets Grew P C : Flickr

पहली अप्रैल से 30 जून तक की अवधि यानी चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के दौरान इक्विटी निवेशकों की कमाई में 2546954.71 करोड़ रुपये का इजाफा हुआ है। पहली तिमाही के आखिर तक बीएसई का 30-शेयरों वाला प्रमुख सूचकांक 2973.56 अंक यानी लगभग छह फीसद मजबूत हो चुका है।

नई दिल्ली, पीटीआइ। कोरोना की दूसरी लहर ने कारोबार जगत को भले ही नुकसान पहुंचाया हो, घरेलू शेयर बाजारों पर इसका कोई नकारात्मक असर नहीं दिखा है। इस वर्ष पहली अप्रैल से 30 जून तक की अवधि यानी चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के दौरान इक्विटी निवेशकों की कमाई में 25,46,954.71 करोड़ रुपये का इजाफा हुआ है। पहली तिमाही के आखिर तक बीएसई का 30-शेयरों इक्विटी सूचकांक वाला प्रमुख सूचकांक 2,973.56 अंक यानी लगभग छह फीसद मजबूत हो चुका है।

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के दौरान घरेलू शेयर बाजारों की यह उपलब्धि इसलिए और महत्वपूर्ण है, क्योंकि बहुत से राज्यों में इस तिमाही का एक बड़ा हिस्सा लॉकडाउन के साये में बीता है। इसी तिमाही में बीएसई में सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 15 जून को 2,31,58,316.92 करोड़ रुपये के सर्वकालिक उच्च स्तर तक पहुंचा।

वहीं, इस अवधि में 24 मई को बीएसई में सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण पहली बार तीन लाख करोड़ डॉलर यानी करीब 220 लाख करोड़ रुपये के पार गया। इतना ही नहीं, 25 जून को बीएसई का सेंसेक्स 52,925.04 के सर्वकालिक उच्च स्तर पर बंद हुआ और 28 जून को इंट्रा-डे में 53,126.73 के शीर्ष स्तर तक पहुंचा।

ऊर्जा के दाम बढ़ने से आर्थिक वृद्धि प्रभावित होगी

जहां तक पिछले वित्त वर्ष का सवाल है तो उस दौरान बीएसई में सूचीबद्ध कंपनियों के बाजार पूंजीकरण में एक वर्ष पहले के मुकाबले 90,82,057.95 करोड़ रुपये बढ़कर 2,04,30,814.54 करोड़ रुपये हो गया था। पिछले वित्त वर्ष में भी कोरोना संकट का घरेलू शेयर बाजारों पर कोई असर नहीं दिखा और पूरे वित्त वर्ष के दौरान बीएसई सेंसेक्स 20,040.66 अंक यानी 68 फीसद मजबूत हुआ।

जानकारों का कहना है कि राज्यों में लॉकडाउन की करीब-करीब समाप्ति और इक्विटी सूचकांक आर्थिक गतिविधियों में तेजी आने के चलते घरेलू शेयर बाजारों के प्रमुख सूचकांक इस वक्त अपने उच्च स्तर के आसपास चल रहे हैं। इसमें बीते वित्त वर्ष के लिए कंपनियों की उम्मीद से बेहतर कमाई तथा हाल के दिनों में टीकाकरण अभियान में तेजी का भी बड़ा योगदान रहा है।

रेटिंग: 4.22
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 124
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *