नौसिखिया निवेशक के लिए एक गाइड

ETF का इतिहास

ETF का इतिहास
गोल्ड एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड्स (ETF)
सोने को शेयरों की तरह खरीदने की सुविधा को गोल्ड ईटीएफ कहते हैं। यह म्यूचुअल फंड की स्कीम है। ये एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड हैं जिन्हें स्टॉक एक्सचेंजों पर खरीदा और बेचा जा सकता है। चूंकि गोल्ड ईटीएफ का बेंचमार्क स्पॉट गोल्ड की कीमतें है, आप इसे सोने की वास्तविक कीमत के करीब खरीद सकते हैं। गोल्ड ईटीएफ खरीदने के लिए आपके पास एक ट्रेडिंग डीमैट खाता होना चाहिए। इसमें सोने की खरीद यूनिट में की जाती है। इसे बेचने पर आपको सोना नहीं बल्कि उस समय के बाजार मूल्य के बराबर राशि मिलती है। यह सोने में निवेश के सबसे सस्ते विकल्पों में से एक है। इसकी खरीद यूनिट में की जाती है। आमतौर पर ईटीएफ के लिए डीमैट खाता जरूरी होता है। इन्हें शेयरों की तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के कैश मार्केट ETF का इतिहास में खरीदा-बेचा जा सकता है। इसमें कोई न्यूनतम लॉट साइज नहीं होता है। गोल्ड ईटीएफ की एक यूनिट एक ग्राम सोने के बराबर होती है। निवेशक इसकी यूनिट्स को एकमुश्त या फिर सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (एसआईपी) के जरिये थोड़ा-थोड़ा भुगतान कर खरीद सकते हैं।

गोल्ड ETF से डिजिटल सोने ETF का इतिहास को मिली चमक, निवेश को मिला बढ़ावा, जानें कैसे

गोल्ड ईटीएफ ने भौतिक रूप में की गई खरीदारी की तुलना में अधिक लाभ देकर डिजिटल गोल्ड में निवेश को बढ़ावा दिया है. इन ईटीएफ को खुले बाजार में शेयरों की तरह खरीदा और बेचा जा सकता है, और बिना किसी अतिरिक्त लागत के डीमैट खातों में संरक्षित किया जा सकता है.

हैदराबाद : हाल के दिनों में, गोल्ड ईटीएफ (Exchange Traded Funds) ने भौतिक धातु की तुलना में निवेशकों को अधिक लाभ देकर डिजिटल सोने (Digital gold) में निवेश को बढ़ावा दिया है. सोना एक ऐसा धातु है, जो सदियों से अपने भौतिक रूप में किसी भी आर्थिक संकट का सामना करने की अपनी क्षमता साबित करता आया है. अब, अपने डिजिटल रूप में, सभी वर्गों के लोगों को विश्वास के साथ निवेश करने के लिए अधिक अवसर प्रदान करके सोना और भी मजबूत होकर उभर रही है.

Bharat Bond ETF: निवेश पर अच्छे रिटर्न की तलाश? ये सरकारी बॉन्ड हो सकता है सुरक्षित विकल्प!

श्वेता झा

  • नई दिल्ली,
  • 17 नवंबर 2021,
  • अपडेटेड 11:00 PM IST

Bharat Bond ETF third tranche investment के लिए 3 december को खुलने जा रहा है. यह common investors के लिए investment ETF का इतिहास का एक reliable option है जिसमें good return मिल सकता है. Bharat Bond ETF ministry of finance के Department of Investment and Public Asset Management (DIPAM) की एक पहल है. इसका management Edelweiss Mutual Fund द्वारा किया जाता है. Bharat Bond ETF एक exchange traded fund है यानि Demat Account के द्वारा exchange पर इसकी खरीद-फरोख्त हो सकती है. इस bond के तहत जमा पैसे को public sector companies के bond में invest किया जाता है. फिलहाल Bharat Bond के द्वारा केवल public sector companies (PSU) के ‘AAA’ rating वाले bond में invest किया जाता है. Bharat Bond में कम से कम 1,000 रुपये का और इसके बाद इसके गुणक में invest किया जा सकता है. इस bond को काफी सुरक्ष‍ित माना जाता है, क्योंकि एक तो यह government companies में invest करता है और दूसरे इसकी AAA rating भी है. देखिए ये वीडियो.

भारत-22 ईटीएफ चार गुना ओवरसब्सक्राइब, सरकार ने जुटाए 14,500 करोड़

ETF


नई दिल्‍ली. भारत-22 एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) को बाजार से जबर्दस्‍त रिस्पांस मिला है। सोमवार को सरकार ने बताया कि यह चार गुना ओवर सब्सक्राइब हो गया, जिसके चलते इस ईटीएफ से सरकार को 14,500 करोड़ रुपए जुटाने में सफलता मिली है। उल्‍लेखनीय है कि सरकार ने इस फंड की लॉन्चिंग के समय सिर्फ 8 हजार करोड़ रुपए ही जुटाने का लक्ष्य रखा था।


32 हजार करोड़ रुपए की बिड मिली
विनिवेश सचिव नीरज गुप्‍ता ने बताया कि इस फंड के लिए करीब 32 हजार करोड़ रुपए की बिड मिली है। इस बिड में एक तिहाई हिस्‍सा विदेशी निवेशकों का है। हालांकि, सरकार ने सिर्फ 14,500 रुपए इस ईटीएफ ETF का इतिहास से जुटाने का फैसला किया है। उन्‍होंने आगे बताया कि इस फंड का रिटेल भाग का हिस्‍सा1.45 गुना, रिटायरमेंट फंड का हिस्‍सा 1.50 गुना और एनआईआईएस और क्‍यूआईबीएस का हिस्‍सा 7 गुना ओवर सब्सक्राइब हुआ है।

ETF का इतिहास

Gold exchange traded funds

गोल्ड ई टी एफ एक एक्स्चेन्ज ट्रेडेड फन्ड (ई टी एफ) है जिसका उद्देश्य डोमेस्टिक फ़िज़िकल गोल्ड प्राईज की नियमित जानकारी रखना है।

एक गोल्ड ई टी एफ युनिट एक ग्राम गोल्ड के बराबर होती है और इसमें उत्तम शुद्धता का फ़िज़िकल गोल्ड होता है। गोल्ड ई टी एफ को नैशनल स्टॉक एक्स्चेन्ज ऑफ इन्डिया (एन एस ई) और बॉम्बे स्टॉक एक्स्चेन्ज लिमिटेड (बी एस ई) में लिस्टेड किया गया है और किसी भी अन्य कंपनी के सिंगल स्टॉक की तरह इसकी ट्रेडिंग होती है। गोल्ड ई टी एफ को खरीदने का अर्थ है आप गोल्ड को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में खरीद रहे हैं। आप जैसे स्टॉक्स में ट्रेड करते ETF का इतिहास हैं, वैसे ही गोल्ड ई टी एफ को खरीद या बेच सकते हैं। जब आप वास्तव में गोल्ड ई टी एफ को रिडीम करते हैं, तब आपको फ़िज़िकल गोल्ड नही मिलता लेकिन उसके मूल्य की नकद राशि मिलती है। अगर आप गोल्ड में ई टी एफ के ज़रिए निवेश करना चाहते हैं तो इस बात की पुष्टि कर लें कि वह पूरी तरह से फ़िज़िकलि बैक्ड ई टी एफ है।

पर्सनल फाइनेंस: आर्थिकमंदी के इस दौर में 3 से ETF का इतिहास 5 साल के लिए सोने में करें निवेश, मिल सकता है बड़ा लाभ

दुनियाभर में फैल चुके कोरोनावायरस संक्रमण के कारण शेयर बाजार और बॉन्ड में गिरावट का माहौल बना हुआ है। मौजूदा हालातों को देखते हुए निवेशकों ने अब सोने में निवेश बढ़ा दिया है। - Dainik Bhaskar

इतिहास गवाह है कि जब भी शेयर बाजार में नुकसान की आशंका हो, डॉलर की तुलना में अन्य ETF का इतिहास मुद्रा कमजोर पड़ने की नौबत हो तो सोने के भाव में उछाल देखा जाता है। भारत में सोने का ETF का इतिहास दाम 1965 की तुलना में अभी 746 गुना ज्यादा है। कोरोना संक्रमण के बाद दुनिया में सोने की मांग बढ़ी है और जब भी सोने का दाम पिछले उच्च स्तर ETF का इतिहास के ऊपर गया है, उसकी गति में अप्रत्याशित तेजी आई है। इतना तय है कि 3 से 5 साल कि ETF का इतिहास अवधि के लिए सोने में निवेश अप्रत्याशित लाभ दे सकता है।

रेटिंग: 4.26
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 154
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *