निवेश योजना

न्यूनतम निवेश

न्यूनतम निवेश

निवेश आरम्भ करने के बाद भी क्या मैं निवेश की अवधि में फेर – बदल कर सकता हूँ?

SIP के ज़रिये म्यूच्यूअल फंड्स में निवेश निवेशक को बहुत लचीलापन प्रदान करते हैं| निवेशक निवेशित राशि पर, अवधिकाल पर और निवेश की आवृत्ति पर (साप्ताहिक, मासिक या त्रैमासिक आदि) अपनी पकड़ जमाये रख सकता है|
एक बार SIP आरम्भ करने पर, क्या आप अपने शुरुआती चुनाव का, अवधि के अंत तक पालन करने को बाध्य या वचनबद्ध होते हैं?

इसका उत्तर है नहीं| उदाहरण स्वरुप, अगर आप किसी फंड में मासिक ५०००/- रूपए के SIP का चुनाव करते हैं जो अगले सात वर्षों की अवधि की समय सीमा लिए है, आपके पास इस अवधि को घटाने या बढाने का, SIP रकम को घटाने और बढाने का लचीलापन मौजूद है| ये आपके वित्तीय स्वास्थ्य और आपकी मर्जी पर निर्भर है| SIPs लम्बी अवधि के निवेश के लिए एक बढ़िया विकल्प साबित हुए हैं जिस पर आप भरोसा कर सकते हैं| इस लचीलेपन के चलते ये बिना झमेला लिए होते हैं और दूसरे निवेशों न्यूनतम निवेश की तुलना में काफी तरल भी हैं|

अगरचे आप SIP के सामयिक नवीनीकरण और विस्तार के झमेलों से भी बचना चाहें तो आप पेर्पेचुअल SIP का चुनाव कर निर्बाधित निवेशित रह सकते हैं जब तक आपके वित्तीय लक्ष्य पूरे न हो जाएँ| आपके ज़रुरत के वक़्त, आप अपने SIP को विराम दें, ये लचीलापन भी आपके पास मौजूद है| अपने समयावधि के पूर्व अगर आपके SIP को विराम या स्थगित करने की नौबत आन पड़े, स्वयं को सुरक्षित रखते हुए, बेहतर होगा अगले SIP की नियत तारीख के ३० दिन पूर्व इस आशय का एक आवेदन पत्र अवश्य जमा कर दें|

न्यूनतम निवेश के साथ व्यावसायिक विचार

Nitika Ahluwalia

हां, तुमने यह सही सुना। उन लोगों के लिए जो खुद के बॉस बनना चाहते हैं, लेकिन एक टाइट बजट उन्हें रोक रहा है। लगभग शून्य या कम निवेश वाले बहुत सारे व्यवसाय विचार हैं जिन्हें शुरू किया जा सकता है। ये विचार शौक, कौशल या जुनून प्रोजेक्ट हो सकते हैं जो अंततः व्यावसायिक उपक्रमों में विकसित होते हैं।

दुखद लेकिन सच है, 9 से 5 की नौकरी हम में से अधिकांश के लिए पर्याप्त और संतोषजनक नहीं है और इसके बजाय हम में से कुछ ऐसे व्यवसाय को विकसित करने और विकसित करने में अधिक रुचि रखते हैं जो दीर्घकालिक आधार पर उच्च रिटर्न का आश्वासन दे सके।

जबकि, नए सिरे से व्यवसाय शुरू करना और इसे एक साम्राज्य बनाना हर किसी के बस की बात नहीं है। हालांकि, अगर आपमें अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने की इच्छा है, तो ऐसे कई व्यवसाय के अवसर हैं जिन्हें आप लगभग बिना किसी निवेश के शुरू कर सकते हैं और मुनाफा कमा सकते हैं। ये व्यावसायिक विचार शून्य बजट न्यूनतम निवेश वाले छात्रों के लिए भी हो सकते हैं, जो शुरू से ही एक कंपनी विकसित करना चाहते हैं। डिजिटल दुनिया में, यह आसान हो जाता है क्योंकि आपके अपने उत्पादों या सेवाओं के विज्ञापन और बिक्री के अधिक रास्ते हैं।

शून्य या कम निवेश व्यवसाय के अवसरों की अवधारणा पहली बार में सुखद या आकर्षक नहीं लग सकती है, लेकिन वे सुरक्षा प्रदान करते हैं और जब तक आप उद्यम में अपना 100% देने के इच्छुक हैं, तब तक आपके बैंक खाते को बरकरार रखते हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि व्यवसाय के बारे में बहुत सारे सीखने के अनुभव होंगे, आपको रास्ते में होने वाले लाभ और हानि को जानने और समझने को मिलेगा। एक बार जब आप फ्लो बना लेते हैं तो आपको अपना व्यवसाय बढ़ाने के लिए बाद में कुछ पूंजी निवेश करने की आवश्यकता हो सकती है।लेकिन एक उद्यमी के लिए ये अनुभव सबसे महत्वपूर्ण होते हैं।

यह आपको अपने व्यवसाय तक पहुंचने या अधिक ऊंचाइयों तक ले जाने में मदद करेगा। शुरू में सामना की गई कोई भी चुनौती समग्र अनुभव के लिए केवल एक कदम है जो प्रतीक्षा कर रहा है: जो सकारात्मक साबित होगा, उसे सफलता मिलती है।तो अगर आप ऐसे व्यक्ति हैं जिनके पास निवेश करने के लिए बहुत कुछ नहीं है, लेकिन आप अपना खुद का व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं और बॉस बनना चाहते हैं, तो यहां 6 व्यवसाय हैं जिन्हें आप बिना किसी निवेश या बहुत कम निवेश के साथ शुरू कर सकते हैं।

1. इवेंट प्लानिंग सर्विसेज

इस बिजनेस को लगभग जीरो कैपिटल के साथ शुरू किया जा सकता है। आपको केवल रचनात्मकता, मैनेजिंग और प्लानिंग स्किल्स की आवश्यकता होगी और आप आगे बढ सकते। इवेंट प्लानिंग सेवाओं में एक प्रमाणन या डिग्री आपके लिए एक अतिरिक्त लाभ हो सकता है, हालांकि, होना अनिवार्य नहीं है। जबकि आपका ग्राहक ईवेंट में आवश्यक सभी खर्चों का भुगतान करता है, आपको केवल ईवेंट की योजना बनाने और यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि ग्राहक के लिए इसे सफल और यादगार बनाना है।

2. एफिलिएट मार्केटिंग

इस व्यावसायिक विचार में, आप किसी भी कंपनी या ब्रांड के सहयोगी बन सकते हैं और ब्रांड के उत्पादों और सेवाओं को बेचने के लिए प्रचार कर सकते हैं। कंपनी के लिए आपके द्वारा की गई बिक्री के आधार न्यूनतम निवेश पर हमेशा एक कमीशन होता है। इन्वेंट्री की कोई आवश्यकता नहीं है और यह व्यवसाय लाभदायक है। यह कुछ ऐसा है जो ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों तरह से किया जा सकता है। आप ग्राहक नेटवर्क बनाने और अच्छा मुनाफा कमाने के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों को भी न्यूनतम निवेश न्यूनतम निवेश मिला सकते हैं। लेकिन यह डोमेन इन दिनों काफी कॉम्पिटिटिव हो रहा है।

3. क्लाउड किचन

फूड व्यवसाय कभी भी चलन से बाहर नहीं जाता है क्योंकि विभिन्न प्रकार के व्यंजन दुनिया भर में मांग को स्थिर बनाते हैं। क्लाउड किचन की अवधारणा कुछ के लिए नई हो सकती है लेकिन यह एक ऐसा व्यवसाय है जो वर्तमान समय में सही तरीके से किया जाए तो लाभदायक होना निश्चित है। आपको बस एक किचन की जरूरत है, जहां आप खाना पकाएंगे और ऑनलाइन फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म के साथ रजिस्टर करें, जो आपके ग्राहकों तक आपका खाना पहुंचा सके। अपने लिए सही ऑडियंस प्राप्त करने और भारी मुनाफा कमाने के लिए आप अपनी खुद की वर्चुअल ट्यूटोरियल सीरीज़ ऑनलाइन भी शुरू कर सकते हैं।

4.रिपेयरिंग सर्विस

ऐसे लोगों की लगातार मांग है जो किसी भी चीज को रिपेयर करने में अच्छे हैं, चाहे वह घरेलू सामान हो या कोई अन्य गैजेट। यह बिजनेस कभी आउट ऑफ ट्रेंड नहीं हो सकता। तो अगर आप इसमें अच्छे हैं, तो आप मोबाइल, लैपटॉप या अन्य इलेक्ट्रॉनिक सामान को रिपेयर कर न्यूनतम निवेश सकते हैं।शुरूआत में, आप इसे घर पर रिपेयरिंग टूल्स को छोड़कर लगभग बिना किसी निवेश के शुरू कर सकते हैं। आप अपनी सेवाओं को एक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर देकर शुरू कर सकते हैं और प्रति घंटे कमा सकते हैं या जैसा कि आप अपनी सेवाओं के अनुसार इसे अपने लिए लाभदायक पाते हैं।

5.डाटा एंट्री सर्विसेज

कई क्षेत्रों में भारी मांग के साथ, डेटा प्रविष्टि व्यवसाय कई लोगों के लिए एक अच्छा विचार हो सकता है। बहुत सारे ओरगेनाइजेशन अपने डाटा एंट्री कार्यों को फ्रीलांसरों और डेटा एंट्री कंपनियों को आउटसोर्स करते हैं। यह एक छोटा व्यवसाय है जिसे बिना निवेश के अच्छे मुनाफे के साथ शुरू किया जा सकता है। डेटा एंट्री सेवाओं में किसी विशेष स्किल्स की आवश्यकता नहीं है। बेसिक कंप्यूटर ज्ञान और अच्छी टाइपिंग स्पीड आवश्यक है। आप इसे खुद करना शुरू कर सकते हैं और जैसे-जैसे आप अपने उद्यम में वृद्धि करेंगे, वैसे-वैसे किराए पर लें।

6.कोचिंग क्लासेस

कोचिंग क्लासेस लोकप्रिय व्यावसायिक विचारों में से एक है जिसमें किसी निवेश की आवश्यकता नहीं होती है। तो अगर आपके पास अपनी अवधारणाएं स्पष्ट हैं और आपको लगता है कि आप अच्छी तरह से पढ़ा सकते हैं, तो आप अपनी कोचिंग क्लासेस ऑनलाइन या ऑफलाइन खोल सकते हैं। आवश्यक निवेश लगभग शून्य है, और आप छात्रों को घर पर ही पढ़ाना शुरू कर सकते हैं और बाद में विस्तार कर सकते हैं। अपने कौशल के आधार पर, उस आयु समूह और विषय को चुनें जिसे आप पढ़ाएंगे, और आरंभ करें।आप अपने छात्र को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के न्यूनतम निवेश माध्यम से पढ़ाना भी शुरू कर सकते हैं। बहुत सारे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म हैं जिनका उपयोग वर्तमान समय में छात्रों को उनके घरों में पढ़ाने के लिए किया जा सकता है।

निष्कर्ष

शून्य निवेश वाले व्यवसाय अन्य नौकरियों की तुलना में बहुत अधिक लाभ प्रदान कर सकते हैं। इसे शुरू करना आसान है, लेकिन इसे लगातार प्रबंधित करना मुख्य चीज है जिस पर आपको ध्यान देने की आवश्यकता है। कड़ी मेहनत, मजबूत मानसिकता और इच्छाशक्ति के बिना आप शायद किसी भी व्यवसाय में सफल नहीं होंगे।बिजनेस करने में आपको पता होना चाहिए कि कौन सा बिजनेस आपके लिए सही है। आपको यह भी जानना होगा कि व्यवसाय स्थापित करने में आपको किन जोखिमों का सामना करना पड़ेगा।

टैक्‍स बचत की इन स्‍कीमों में 31 मार्च तक कर दें न्यूनतम निवेश, नहीं तो होगी दिक्‍कत

वित्त वर्ष 2020-21 के लिए टैक्सपेयर्स के पास इनकम टैक्‍स की पुरानी और नई व्यवस्था में से किसी एक को चुनने का विकल्प है.

photo4

वित्त वर्ष 2020-21 के लिए टैक्सपेयर्स के पास इनकम टैक्‍स की पुरानी और नई व्यवस्था में से किसी एक को चुनने का विकल्प है. इनकम टैक्‍स की पुरानी व्यवस्था चुनने वाले लोगों को डिडक्‍शन और टैक्‍स एग्‍जेम्‍पशन का फायदा मिलता रहेगा. हालांकि, कम रेट वाली इनकम टैक्‍स की नई व्‍यवस्‍था को चुनने पर ज्‍यादातर डिडक्‍शन और एग्‍जेम्‍पशन से हाथ धोना पड़ेगा.

आइए, यहां जानते हैं कि इन स्कीमों में न्यूनतम निवेश न्यूनतम निवेश की कितनी रकम है और ऐसा नहीं करने पर क्‍या होगा.

पीपीएफ
पीपीएफ खाते में किसी वित्त वर्ष के दौरान 500 रुपये का न्यूनतम निवेश करना पड़ता है. अकाउंट में न्यूनतम निवेश करने की आखिरी तारीख 31 मार्च 2021 है. इसके बाद हर साल 500 रुपये के साथ 50 रुपये की पेनाल्टी देनी होगी. मिनिमम कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं करने पर खाता निष्क्रिय हो जाएगा. ऐसी स्थिति में पीएफ अकाउंट होल्‍डर न तो लोन का फायदा ले पाएगा और न ही आंशिक निकासी कर सकेंगा.निष्क्रिय खाते को कभी भी ओरिजनल मैच्योरिटी डेट से पहले रिवाइव किया जा सकता है. पीपीएफ खाता 15 साल में मैच्योर होता है. खाते की मैच्योरिटी पर ही इससे पैसा निकाला जा सकता है.

एनपीएस
नेशनल पेंशन सिस्टम यानी एनपीएस सरकार की रिटायरमेंट सेविंग स्कीम है. इसे केंद्र सरकार ने 1 जनवरी 2004 को लॉन्च किया था. इस योजना में दो तरह के अकाउंट होते हैं. टियर-1 और टियर-2. एनपीएस टियर-1 अकाउंट को खुलवाना अनिवार्य है. इसे एक्टिव रखने के लिए हर साल 1,000 रुपये न्यूनतम निवेश जरूरी है. टियर-1 अकाउंट में मिनिमम कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं करने पर अकाउंट डॉर्मेंट हो जाएगा. एनपीएस अकाउंट को रिवाइव करने के लिए मिनिमम कॉन्ट्रिब्‍यूशन के साथ हर साल के हिसाब से 100 रुपये की पेनाल्‍टी देनी होगी. एनपीएस अकाउंट को रिवाइव करने के लिए पॉइंट ऑफ प्रेजेंस (पीओपी) चार्ज भी जोड़े जाएंगे.

कोई भी टियर-1 अकाउंट होल्डर टियर-2 अकाउंट को खोल सकता है. इसमें अपनी इच्छा से पैसा जमा और निकाला जा सकता है. यह अकाउंट सभी के लिए अनिवार्य नहीं है. यह आपकी इच्छा पर निर्भर है. अगर टियर-1 अकाउंट फ्रीज हो जाता है तो टियर-2 अकाउंट अपने आप निष्क्रिय हो जाता है. वैसे टियर-2 अकाउंट में मिनिमम कॉन्ट्रिब्‍यूशन की जरूरत नहीं होती है.

सुकन्या समृद्धि योजना
इस खाते को एक्टिव रखने के लिए साल में न्यूनतम निवेश कम से कम 250 रुपये डिपॉजिट करना पड़ता है. ऐसा नहीं करने पर खाता निष्क्रिय हो जाता है. इस खाते को रिवाइव करने के लिए आपको बैंक और पोस्ट ऑफिस में लिखित में आवेदन करना पड़ता है. इसके बाद आपको 250 रुपये का न्यूनतम निवेश और 50 रुपये की सालाना न्यूनतम निवेश पेनाल्टी देनी होती है.

आपको क्‍या करना चाहिए?
इन स्‍कीमों में सिर्फ मिनिमम इंवेस्‍टमेंट नहीं करना चाहिए. कारण है कि इससे लंबी अवधि के लक्ष्यों को पूरा करने में मदद नहीं मिलेगी. अच्‍छा होगा कि अपने लक्ष्यों को निवेश के साथ जोड़ा जाए. फिर उसी के अनुसार निवेश किया जाए.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टैक्‍स बचत की इन स्‍कीमों में 31 मार्च तक कर दें न्यूनतम निवेश, नहीं तो होगी दिक्‍कत

वित्त वर्ष 2020-21 के लिए टैक्सपेयर्स के पास इनकम टैक्‍स की पुरानी और नई व्यवस्था में से किसी एक को चुनने का विकल्प है.

photo4

वित्त वर्ष 2020-21 के लिए टैक्सपेयर्स के पास इनकम टैक्‍स की पुरानी और नई व्यवस्था में से किसी एक को चुनने का विकल्प है. इनकम टैक्‍स की पुरानी व्यवस्था चुनने वाले लोगों को डिडक्‍शन और टैक्‍स एग्‍जेम्‍पशन का फायदा मिलता रहेगा. हालांकि, कम रेट वाली इनकम टैक्‍स की नई व्‍यवस्‍था को चुनने पर ज्‍यादातर डिडक्‍शन और एग्‍जेम्‍पशन से हाथ धोना पड़ेगा.

आइए, यहां जानते हैं कि इन स्कीमों में न्यूनतम निवेश की कितनी रकम है और ऐसा नहीं करने पर क्‍या होगा.

पीपीएफ
पीपीएफ खाते में किसी वित्त वर्ष के दौरान 500 रुपये का न्यूनतम निवेश करना पड़ता है. अकाउंट में न्यूनतम निवेश करने की आखिरी तारीख 31 मार्च 2021 है. इसके बाद हर साल 500 रुपये के साथ 50 रुपये की पेनाल्टी देनी होगी. मिनिमम कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं करने पर खाता निष्क्रिय हो जाएगा. ऐसी स्थिति में पीएफ अकाउंट होल्‍डर न तो लोन का फायदा ले पाएगा और न ही आंशिक निकासी कर सकेंगा.निष्क्रिय खाते को कभी भी ओरिजनल मैच्योरिटी डेट से पहले रिवाइव किया जा सकता है. पीपीएफ खाता 15 साल में मैच्योर होता है. खाते की मैच्योरिटी पर ही इससे पैसा निकाला जा सकता है.

एनपीएस
नेशनल पेंशन सिस्टम यानी एनपीएस सरकार की रिटायरमेंट सेविंग स्कीम है. इसे केंद्र सरकार ने 1 जनवरी 2004 को लॉन्च किया था. इस योजना में दो तरह के अकाउंट होते हैं. टियर-1 और टियर-2. एनपीएस टियर-1 अकाउंट को खुलवाना अनिवार्य है. इसे एक्टिव रखने के लिए हर साल 1,000 रुपये न्यूनतम निवेश जरूरी है. टियर-1 अकाउंट में मिनिमम कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं करने पर अकाउंट डॉर्मेंट हो जाएगा. एनपीएस अकाउंट को रिवाइव करने के लिए मिनिमम कॉन्ट्रिब्‍यूशन के साथ हर साल के हिसाब से 100 रुपये की पेनाल्‍टी देनी होगी. एनपीएस अकाउंट को रिवाइव करने के लिए पॉइंट ऑफ प्रेजेंस (पीओपी) चार्ज भी जोड़े जाएंगे.

कोई भी टियर-1 अकाउंट होल्डर टियर-2 अकाउंट को खोल सकता है. इसमें अपनी इच्छा से पैसा जमा और निकाला जा सकता है. यह अकाउंट सभी के लिए अनिवार्य नहीं है. यह आपकी इच्छा पर निर्भर है. अगर टियर-1 अकाउंट फ्रीज हो जाता है तो टियर-2 अकाउंट अपने आप निष्क्रिय हो जाता है. वैसे टियर-2 अकाउंट में मिनिमम कॉन्ट्रिब्‍यूशन की जरूरत नहीं होती है.

सुकन्या समृद्धि योजना
इस खाते को एक्टिव रखने के लिए साल में कम से कम 250 रुपये डिपॉजिट करना न्यूनतम निवेश पड़ता है. ऐसा नहीं करने पर खाता निष्क्रिय हो जाता है. इस खाते को रिवाइव करने के लिए आपको बैंक और पोस्ट ऑफिस में लिखित न्यूनतम निवेश में आवेदन करना पड़ता है. इसके बाद आपको 250 रुपये का न्यूनतम निवेश और 50 रुपये की सालाना पेनाल्टी देनी होती है.

आपको क्‍या करना चाहिए?
इन स्‍कीमों में सिर्फ मिनिमम इंवेस्‍टमेंट नहीं करना चाहिए. कारण है कि इससे लंबी अवधि के लक्ष्यों को पूरा करने में मदद नहीं मिलेगी. अच्‍छा होगा कि अपने लक्ष्यों को निवेश के साथ जोड़ा जाए. फिर उसी के अनुसार निवेश किया जाए.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

रेटिंग: 4.42
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 684
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *