व्यापारिक विदेशी मुद्रा

बिटकॉइन की कीमत कैसे निर्धारित की जाती है

बिटकॉइन की कीमत कैसे निर्धारित की जाती है

बिटकॉइन क्या है और यह कैसे काम करता है?

इंटरनेट इन्वेस्टमेंट मार्किट में सबसे चर्चित विषय है Bitcoin. अगर आप बिटकॉइन में इन्वेस्ट करना चाहते है तो थोड़ी बहुत जानकारी से आप इस विषय को नहीं समझ सकते है। कोई भी Beginner यहाँ इन्वेस्ट कर सकता है लेकिन उसके लिए आपको क्रिप्टो करेंसी / बिटकॉइन के सम्बन्ध में पूरी तरह जानना होगा।

यहाँ पर हम उन सभी विषयो को विस्तृत रूप से बताया है जो की आपकी जानकारी के लिए प्रमुख होंगी।

Bitcoin cryptocurrency क्या है ?

Bitcoin, यह एक virtual currency है ,जो की एक computer algorithm के माध्यम से बनाई गई हैं। Peer to Peer बिटकॉइन नेटवर्क के माध्यम से इसका लेन देन होता है, केन्द्रीय बैंक, RBI जैसी कोई भी अथॉरिटी यहाँ नहीं होती ।

बिटकॉइन की शुरुआत सन २००९ में हुई थी लेकिन हल ही में यह बहुत ज्यादा ट्रेंडिंग में है। आप अपना डिजिटल करेंसी या bitcoin को bitcoin वॉलेट में सेव कर सकते है। भविस्य के आदान प्रदान के लिए आप यहाँ से सिक्योर ऑनलाइन ट्रांसक्शन कर सकते है।

बिटकॉइन का इस्तेमाल कहा होता है |

इन दिनों बिटकॉइन का इस्तेमाल बहुत सारी ऑनलाइन लेन देन के लिए हो रही है। इसके अलावा आप P2P नेटवर्क के जरिये भी लेनदेन कर सकते है। बहुत सी उच्च कम्पनियाँ जैसे टेस्ला ,माइक्रोसॉफ्ट , कुछ ऑनलाइन डेवलपर्स , NGO भी लें देन के लिए बिटकॉइन का इस्तेमाल करते हैं।

बिटकॉइन से ब्यापार कैसे करते हैं ?

जैसे कि आप जानते है , बिटकॉइन डिजिटल वॉलेट मैं सेव किया जाता है। ये पूरी तरीके से एक Digitally controlled करेंसी हैं। इस करेंसी की कीमत , दूनिया भर में एक ही समय पर समान रहेती हैं। क्रिप्टो करेंसी का कोई निर्धारित समय नही होते , ग्लोबली बहुत सारी एक्टिविटीज़ के ऊपर इसकी कीमत डिपेंड करती हैं। इसीलिये बिटकॉइन के कीमत पर उताड़ चढ़ाओ देखा जाता है।

एक बिटकॉइन का मूल्य कितना होता है ?

बिटकॉइन जो सबको पता है की यह एक मूलयवान मुद्रा है। लेकिन इस मुद्रा की तुलना आप किसी भी शारीरिक या छेत्रियमुद्रा से नहीं कर सकते है जैसे की डॉलर , पाउंड , रुपया इत्यादि।

भारतीय मूल्य के मुताबिक अभी बिटकॉइन की कीमत ४०८६३८० रूपए है। लेकिन जैसे कि आपको पता है इस डिजिटल मुद्रा का कोई अधिकार नियंत्रण नहीं करता ,इसलिए Market के मुताबिक ही इसका मूल्य में बृद्धि और कमी आती है।

बिटकॉइन की खरीदारी कैसे करें ?

सबसे जरुरी और बिटकॉइन की कीमत कैसे निर्धारित की जाती है महत्वपूर्ण सवाल यह है की बिटकॉइन की खरीदारी कैसे करें। वैसे तो बहुत सारी ऐसी प्लेटफार्म और वेबसाइट हैं जहां से आप बिटकॉइन की खरीदारी कर सकते है। लेकिन आपको यह अवश्य ध्यान रखें की आप कोई ट्रस्टेड साइट से ही बिटकॉइन की खरीद करें।

उम्मीद है की इस ब्लॉग के माध्यम से आपको बिटकॉइन से सम्बंधित सभी जानकारी हासिल हुई होगी। बिटकॉइन से जुडी और भी ऐसे ब्लॉग की जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहे।

Cryptocurrency में निवेश से करना चाहते हैं कमाई तो जान लें ये तीन बातें, फायदे में रहेंगे आप

अगर आप क्रिप्टोकरेंसी में निवेश की योजना बना रहे हैं तो इनकी ट्रेडिंग में लगने वाले तीन तरह के ट्रांजैक्शन फीस के बारे में जरूर जान लें.

Cryptocurrency में निवेश से करना चाहते हैं कमाई तो जान लें ये तीन बातें, फायदे में रहेंगे आप

TV9 Bharatvarsh | Edited By: संजीत कुमार

Updated on: Aug 18, 2021 | 9:45 AM

क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने का प्लान बना रहा हैंं तो पहले यह खबर जरूर पढ़े लें. क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज (Cryptocurrency Exchange) एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां आप क्रिप्टोकरेंसी के बीच उनके वर्तमान मार्केट वैल्यू के आधार पर ट्रेड कर सकते हैं. क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) की कीमत डिमांड, सप्लाई और मार्केट द्वारा तय किया जाता है. यह एक स्टॉक एक्सचेंज के समान है जहां आप कंपनियों के शेयर खरीदते और बेचते हैं. एक क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज पर आप एक निश्चित कीमत पर (Cryptocurrency) खरीद सकते हैं और मुनाफा कमाने के लिए कीमत बढ़ने पर आप इसे बेच सकते हैं. स्टॉक एक्सचेंज की तरह, क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज में भी ट्रेड्स पर ट्रांजैक्शन चार्ज लगता है. आइए जानते हैं क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग में कौन-कौन से लगते हैं चार्ज.

तीन तरह के लगते हैं ट्रांजैक्शन चार्ज

अगर आप क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने की योजना बना रहे हैं, तो आपको पता होना चाहिए कि क्रिप्टो ट्रेडिंग में मोटे तौर पर तीन प्रकार के ट्रांजैक्शन चार्ज लगते हैं- एक्सचेंज फीस, नेटवर्क फीस और वॉलेट फीस.

एक्सचेंज फीस (Exchange fees): क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेडिंग करते समय ट्रेडर को पहला ट्रांजैक्शन फीस, एक्सचेंज फीस के बारे में पता होना चाहिए. एक्सचेंज फीस क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज द्वारा खरीद या बिक्री ऑर्डर को पूरा करने के लिए चार्ज की जाती है. भारत में अधिकांश Cryptocurrency Exchange का एक फिक्स्ड चार्ज मॉडल है, लेकिन लेनदेन की अंतिम लागत उस प्लेटफॉर्म पर निर्भर करती है जिसका उपयोग आप लेनदेन को पूरा करने के लिए कर रहे हैं. एक स्मार्ट ट्रेडर के रूप में आपको अच्छी तरह छानबीन करना चाहिए और पता लगाना चाहिए कि कौन से क्रिप्टो एक्सचेंज सबसे कम ट्रांजैक्शन चार्ज लेते हैं.

नेटवर्क फीस (Network fees): क्रिप्टोकरेसी माइनर्स को उनके काम के लिए नेटवर्क फीस देना होता है. क्रिप्टोकरेंसी माइनर्स पावरफुल कंप्यूटर वाले व्यक्ति हैं जो एक ब्लॉकचेन में जोड़े जाने वाले लेनदेन को वेरिफाई करने और वैलिडेट करने का काम करते हैं. वे यह सुनिश्चित करके क्रिप्टो लेनदेन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं कि टोकन दो बार खर्च नहीं किए गए और लेनदेन वास्तविक और सत्य हैं. क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज का नेटवर्क फीस पर कोई सीधा नियंत्रण नहीं है और यह नेटवर्क के माइनर्स/वैलिडेटर को देय है.

नेटवर्क फीस डिमांड द्वारा संचालित होते हैं, जब नेटवर्क में भीड़ बढ़ती है, तो फीस बढ़ सकता है. यूजर्स को आमतौर पर ट्रांजैक्शन चार्ज पूर्व-निर्धारित करने की अनुमति दी जाती है. यह किसी प्रकार की देरी से बचने के लिए एक्सचेंज द्वारा ऑटोमेटिक रूप से सेटअप किया जाता है.

वॉलेट फीस (Wallet fees): क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेड करते समय आप अपनी क्रिप्टोकरेंसी को डिजिटल वॉलेट में स्टोर करते हैं. डिजिटल वॉलेट एक ऑनलाइन बैंक खाते की तरह है जहां आप अपनी क्रिप्टोकरेंसी सुरक्षित रखते हैं. क्रिप्टो वॉलेट (Crypto Wallet) आपको क्रिप्टोकरेंसी प्राप्त करने और उन्हें सुरक्षित रूप से स्टोर करने में सक्षम बनाता है और आपके लिए अपनी क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग करना या दूसरों को भेजना आसान बनाता है.

अधिकांश वॉलेट क्रिप्टोकरेंसी के डिपॉजिट और स्टोर पर कोई चार्ज नहीं लेते हैं, लेकिन वॉलेट से क्रिप्टोकरेंसी को विड्रॉ करने/भेजने पर चार्ज लेते हैं जो मूल रूप से नेटवर्क चार्ज है. Crypto Wallet एक सिस्टेमैटिक क्रिप्टोकरेंसी खरीदारी विकल्प प्रदान करते हैं और इसमें इंटिग्रेटेड मर्चेंट गेटवे सर्विस है जिसके जरिए से आप अपने स्मार्टफोन और डीटीएच (DTH) सर्विसेस को रिचार्ज भी कर सकते हैं.

ज़ेबपे बिटकॉइन वॉलेट एप्प क्या है | Zebpay enabled bitcoin wallet app in hindi

आज के समय में बिटकॉइन क्रिप्टोकरेंसी बहुत ही प्रसिद्ध डिजिटल करेंसी बनती जा रही है. इस आभासी मुद्रा को लोगों द्वारा खूब खरीदा जा रहा है. आभासी मुद्रा उस मुद्रा को कहा जाता है जिन्हें हम देख और छु नहीं सकते. आज के समय में जिस किसी के भी पास पैसा है वो उसे सही जगह निवेश करके लाभ कमाना चाहता है. अगर आप भी सही जगह पर अपने पैसों का निवेश करने का सोच रहे हैं, तो आपके लिए ज़ेबपे एक जगह है. जिसके द्वारा आप बिटकॉइन क्रिप्टोकरेंसी में निवेश कर सकते है. हांलाकि इसमें जोखिम बहुत ज्यादा है, फिर भी कई ऐसे लोग हैं जो इसमें निवेश करना चाहते हैं और उन्हीं लोगों के लिए आज हम अपने आर्टिकल में ज़ेबपे की विस्तृत जानकारी दे रहे है.

zebpay wallet app

ज़ेबपे आईटी सर्विस कंपनी और इसके उपभोक्ता (zebpay company and user)

ज़ेबपे सेवा क्या है: (What is Zebpay service)

जेबपे आईटी सर्विस प्राइवेट लिमिटेड, एक स्वतंत्र लिमिटेड कंपनी है, जो कि भारत के कानून के अंतर्गत शामिल है. इस कंपनी का अपना खुद का रजिस्टर ऑफिस है, जो कि अहमदाबाद में स्थित है. प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से जेबपे की सेवाओं का लाभ लेनेवाले व्यक्तियों को जेबपे उपभोक्ता कहा जाता है.

जेबपे के उपभोक्ता बनने से जुड़ी शर्तें

भारत का निवासी और कानून के अंतर्गत आनेवाला व्यक्ति ही जेबपे का यूजर या उपभोक्ता बन सकता है, इसके अलावा कोई भी अमान्य व्यक्ति जो की भारत के कानून के अंतर्गत नहीं आता हो, वो जेबपे की सेवाओं का लाभ नहीं ले सकता है. ज़ेबपे एक तरह से कंपनी और उसके उपभोक्ता के बीच एक तरह का अनुबंध (लिखित समझोता) है. जिसके अंतर्गत यूजर इसकी सभी शर्तों का पालन करने के लिए बाध्य होते हैं. जब भी आप ज़ेबपे पर अपना खाता बनाते हैं, तो आपको कंपनी के द्वारा कुछ शर्ते दी जाती है. जब आप उन शर्तों को अच्छे से पढ़ लेते हैं और उनसे सहमत होते हैं तब आपको आई अग्री बटन पर क्लीक करके अपनी सहमती देनी होती है. ऐसा करने के बाद आप ज़ेबपे के उपभोक्ता बन जाते हैं. ज़ेबपे के उपभोक्ता बनने से पहले इस बात का ध्यान रखना आवश्यक है, कि ज़ेबपे जब चाहे अपनी पॉलिसीस में सुधार या उसे बदल सकता है.

ज़ेबपे की सेवाओ का लाभ कैसे उठाये :

अगर आप ज़ेबपे बिटकॉइन की कीमत कैसे निर्धारित की जाती है की सेवाओ का लाभ लेना चाहते हैं, तो आप ज़ेबपे एंड्राइड एप, ज़ेबपे आईफ़ोन एप या ज़ेबपे की वेबसाइट www.zebpay.com आदि में से किसी का भी उपयोग कर सकते हैं. आप ज़ेबपे की किसी भी सेवा का उपयोग करके अपना खाता खोलते है तो उसे यूजर एकाउंट के नाम से ही संबोधित किया जाता है. अगर आप ज़ेबपे के यूजर बनना चाहते हैं, तो आपको ये जानलेना आवश्यक है कि, ज़ेबपे के द्वारा दिये जाने वाले ऑफर, दी जाने वाली राशि, इसकी समय सीमा पहले से ही निर्धारित है.

ज़ेबपे सेवा की कमियां

अगर आप ज़ेबपे सेवा के जरिए अपना पैसा निवेश करने का सोच रहे हैं, तो आपको ज़ेबपे की सेवाओं से जुड़ी जानकारी के बारे में पता होना चाहिए. नीचे हम आपको जेबपे से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी दे रहे हैं-

  • ज़ेबपे के द्वारा क्रिप्टोकरेंसी को खरीदा और बेचा जाता है, फिलहाल हम इसके इस्तेमाल से अभी केवल बिटकॉइन बिटकॉइन की कीमत कैसे निर्धारित की जाती है क्रिप्टोकरेंसी को ही खरीद और बेच सकते हैं. ज़ेबपे की कई सारी खामियां भी हैं जैसे, ज़ेबपे ना तो बिटकॉइन क्रिप्टोकरेंसी का निर्माता है, ना ही इनका प्रबंधन ज़ेबपे के हाथ में है, और ना ही ज़ेबपे ग्लोबल मार्केट में इसकी कीमत के लिए जिम्मेदार है. ज़ेबपे क्रिप्टोकरेंसी के उपयोग के लिये केवल एक साधन मात्र है.
  • ज़ेबपे अपनी सेवाओं में किसी भी प्रकार की वारंटी नहीं देता. उपभोक्ता जो कि ज़ेबपे की सेवाओ का लाभ ले रहे हैं, वे पूरी तरह से अपने जोखिम पर काम करता है. अगर उपभोक्ता को किसी भी तरह का नुकसान होता है तो इसके लिए ज़ेबपे जिम्मेदार नहीं होगा. ज़ेबपे अपने अनुबंध में भी यह बात स्पष्ट करता है कि किसी भी तरह की वारंटी ज़ेबपे के द्वारा नहीं दी जाती है.
  • ज़ेबपे सेवा का उपयोग केवल भारत में ही किया जा सकता है, इसी के साथ इसमें उपभोक्ता को अपना व्यापार भारत के कुछ हिस्सों में फैलाने की सख्त मनाई है. भारत में कई ऐसे स्थान भी है जहां क्रिप्टोकरेंसी को मान्यता नहीं अगर कोई भी यूजर निषिध्द अधिकार क्षेत्र से ज़ेबपे का उपयोग करता है तो ज़ेबपे कभी भी उसकी मान्यता रद्द कर सकता है.
  • ज़ेबपे के उपभोक्ता को यह बात जानलेनी चाहिये की अब तक क्रिप्टोकरेंसी को भारत में किसी भी तरह के व्यापार याभुगतान के लिये मान्यता नहीं मिली है, रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने भी अब तक तीन प्रेस कांफ्रेंस कर क्रिप्टोकरेंसी के उपयोग को लेकर सतर्क रहने की हिदायत दी है.
  • हो सकता है की ज़ेबपे अपनी सेवाओं को आसान बनाने के लिए किसी अन्य संस्था से प्रतिबद्ध हो. इस स्थिति में उपभोक्ता का व्यक्तिगत जानकारी उस अन्य संस्था को भी दी जाती है और इस समय ज़ेबपे उपभोक्ता के डाटा की गोपनीयता के लिए स्वयं जिम्मेदारी नहीं लेता.
  • ज़ेबपे के सभी नियम सभी नये व पुराने उपभोक्ता के लिए एक जैसे होंगे. ज़ेबपे जब चाहे अपनी शर्तों में बदलाव करने के लिए स्वतंत्र है, जिसकी लिखित जानकारी इसके उपभोक्ता को भेजी जाती है. अगर उपभोक्ता इन परिवर्तन से सहमत नहीं है, तो वह तुरंत ज़ेबपे की सेवाओ को छोड़ने का फैसला ले सकता है. और अगर उपभोक्ताऐसानहीं करता है तो इसका यह अर्थ निकला जाता है की वह सभी परिवर्तन से सहमत है .

ज़ेबपे सेवा के क्षेत्र (scope of बिटकॉइन की कीमत कैसे निर्धारित की जाती है Zebpay services ) :

  • वर्तमान में ज़ेबपे अपने उपभोक्ता को क्रिप्टोकरेंसी को इस्तेमाल करने के लिए रजिस्ट्रेशन प्रदान करता है, जिससे वे इसका उपयोग कर सके. अब ज़ेबपे की आगामी सेवाओं में उपभोक्ता आपस में भी क्रिप्टोकरेंसी का लेनदेन या व्यापार कर पायेंगे .
  • उपभोक्ता ज़ेबपे के माध्यम से क्रिप्टोकरेंसी को खरीद कर अपना पैसा इसमें निवेश कर सकता है और जरुरत पड़ने पर उसे बेचा भी जा सकता है. ज़ेबपे किसी भी प्रकार का निवेश कानून के अंतर्गत नहीं आता है.

ज़ेबपे पर अपना खाता बनाने की प्रक्रिया (How to create zebpay wallet app account in hindi):

  • आपको ज़ेबपे खाता बनाने के लिए सबसे पहले इसकी एप अपने फोन में डाउनलोड करनी होगी. उसके बाद आपको इसमें अपना मोबाइल नंबर डालकर उसे प्रमाणित करना होता है, जो कि आपको वन टाइम पासवर्ड भेजकर किया जाता है.
  • अब आपको इसमें सभी आवश्यक जानकारी जैसे नाम, पता, पेनकार्ड नंबर और ईमेल आईड डालनी होगी. ज़ेबपे खाता बनाते समय यह ध्यान रखना आवश्यक है की आपके द्वारा दी गयी जानकारी सही होनी चाहिये.
  • ज़ेबपे सर्विस का उपयोग करने के लिए आपको अपना एकाउंट नंबर भी देना होता है.
  • जब 24 घंटे बाद आपके खाता नंबर की जांच हो जाती है और सही होने पर आपका ज़ेबपे एकाउंट चालू हो जाता है, जिसके द्वारा आप बिटकॉइन खरीद और बेच सकते है.

जब हम ज़ेबपे सर्विस की बात करते हैं, तो क्रिप्टोकरेंसी और बिटकॉइन को समझना बहुत आवश्यक हो जाता है. नीचे बहुत ही कम शब्दो में आपको इन दोनों के बारे में जानकारी दी गई है जो कि इस प्रकार है-

क्रिप्टोकरेंसी क्या है (What is cryptocurrency) :

क्रिप्टोकरेंसी एक तरह का डिजिटल मनी है, जिसका उपयोग इंटरनेट की सहायता से किया जा सकता है. दुनिया में लगभग 1300 तरह की क्रिप्टोकरेंसी हैं लेकिन क्रिप्टोकरेंसी को कई देशों में मान्यता नहीं मिली है. वहीं क्रिप्टोकरेंसी की सहायता से लोग अपना पैसा आसानी से छुपा सकते है. क्रिप्टोकरेंसी से जुड़ा सारा लेन-देन इंटरनेट पर ही किया जाता है.

बिटकॉइन क्या है (What is Bitcoin):

बिटकॉइन एक तरह की क्रिप्टोकरेंसी है और बिटकॉइन के अविष्कार सतोशी नाकामोतो ने 2009 में किया था. इसपर किसी भी कंपनी, व्यक्ति, या देश का एकाधिकार नहीं है. ठीक उसी तरह जिस प्रकार से इंटरनेट पर किसी बिटकॉइन की कीमत कैसे निर्धारित की जाती है का अधिकार नहीं है. इसकी कार्य प्रणाली पीयर-टू-पीयर है, जिसका मतलब इसमें मुद्रा का विनिमयन प्रत्यक्ष रूप से होता है. इसमे कोई मध्यस्थ जैसे बैंक, कोंई क्रेडिट कार्ड कंपनी अदि नहीं होते हैं. इसमें ट्रांजेशन को ब्लॉक चेन के द्वारा चेक किया जाता है. आज के दिन 1 बिटकॉइन की कीमत 1143227.92 रूपए है.

Bitcoin latest price: पब्लिक सेक्टर की ये कंपनी खरीदेगी और बिटकॉइन, जानें पूरी डिटेल्स

एंटरप्राइज एनालिटिक्स और मोबिलिटी सॉफ्टवेयर कंपनी MicroStrategy फिर से बिटकॉइन खरीदने की योजना बना रही है। अगर दुनियाभर की बात करें तो पब्लिक सेक्टर की कंपनियों के मामले में सबसे अधिक बिटकॉइन इसी कंपनी के पास हैं। बिटकॉइन खरीदे जाने पर लोगों का ध्यान इसलिए भी खिंचा है, क्योंकि कंपनी को दूसरी तिमाही में 424.8 मिलियन डॉलर का नुकसान हुआ है, बावजूद इसके कंपनी बिटकॉइन खरीदने की सोच रही है। 2020 की तीसरी तिमाही में कंपनी को 689.6 मिलियन डॉलर का नुकसान झेलना पड़ा था। अभी एक बिटकॉइन की कीमत 43,500 डॉलर के करीब है।

अगर 30 जून 2021 तक के आंकड़ों की बात करें तो कंपनी के पास करीब 1,05,085 बिटकॉइन हैं, जिनकी बुक वैल्यू लगभग 2.बिटकॉइन की कीमत कैसे निर्धारित की जाती है बिटकॉइन की कीमत कैसे निर्धारित की जाती है 051 अरब डॉलर है। बायबिटक्वॉइन वर्ल्डवाइड डॉट कॉम के अनुसार टेस्ला के पास 42,902 बिटकॉइन, गैसेक्सी डिजिटल होल्डिंग्स के पास 16,400 बिटकॉइन, Voyager Digital के पास 12,260 बिटकॉइन और स्क्वायर के पास 8,027 बिटकॉइन हैं।

बिटकॉइन एक तरह की क्रिप्टोकरंसी है। 'क्रिप्टो' का मतलब होता है 'गुप्त'। यह एक डिजिटल करंसी है, जो क्रिप्टोग्राफी के नियमों के आधार पर काम करती है। इसकी सबसे खास बात ये है डिजिटल होने की वजह से आप इसे छू नहीं सकते। बिटकॉइन की शुरुआत 2009 में हुई थी। बिटकॉइन की कीमत लगातार बढ़ रही है। गुरुवार सुबह के हिसाब से इसकी कीमत करीब 8.31 लाख को क्रॉस कर चुकी है। यह एक तरह की डिजिटल करंसी है। इसकी शुरुआत एलियस सतोशी नाम के शख्स ने की थी।

बिटकॉइन विशेषज्ञ हितेश मालवीय बताते हैं कि बिटकॉइन वर्चुअल कॉइन हैं, जो अपनी कीमत बनाने और बढ़ाने के लिए डिजाइन किए गए हैं। इस तरह पैसों के लेन-देन के लिए आपकों बैंकों तक जाने की जरूरत नहीं है। अगर किसी भी व्यक्ति के पास बिटकॉइन है, तो इसकी कीमत और वैल्यू ठीक उसी तरह मानी जाएगी जैसे ईटीएफ में कारोबार करते समय सोने की कीमत मानी जाती है। इस बिटकॉइन से आप ऑनलाइन शॉपिंग भी कर सकते हैं और इसे निवेश के रूप में भी संभाल कर रख सकते हैं। बता दें कि ये बिटकॉइन एक पर्सनल ई-वॉलेट से दूसरे पर्सनल ई-वॉलेट में ट्रांसफर भी किए जाते हैं। ये ई-वॉलेट्स आपका निजी डेटाबेस होते हैं, जिसे आप अपने कंप्यूटर, लैपटॉप, स्मार्टफोन, टैबलेट या किसी ई-क्लाउड पर स्टोर करते हैं।

Kraken के जरिए बिटकॉइन ट्रेडिंग की जा सकती है। इसके लिए पहले अपना अकाउंट बनाना होता है। इसके बाद ईमेल के जरिए अकाउंट कन्फर्म करना होता है। अकाउंट वेरिफाइ होने के बाद आप ट्रेडिंग मेथड सिलेक्ट कर सकते हैं। ट्रेडिंग के लिए चार्ट मौजूद होता है जिसमें बिटकॉइन की कीमत कैसे निर्धारित की जाती है बिटकॉइन की कीमत की हिस्ट्री होती है। आप समय पर बिटकॉइन का ऑर्डर देकर खरीद सकते हैं और बेच सकते हैं। बिटकॉइन की कीमतों में बदलाव बहुत ही अप्रत्याशित और तेज होता है इसलिए इसमें खतरा बना रहता है।

बिटकॉइन की कीमत दुनियाभर में एक समय पर समान होती है इसलिए इसकी ट्रेडिंग मशहूर हो गई। दुनियाभर की गतिविधियों के हिसाब से बिटकॉइन की कीमत घटती-बढ़ती रहती है। यह किसी देश द्वारा निर्धारित नहीं होती है बल्कि डिजिटली कंट्रोल होती है। स्टॉक मार्केट की तरह बिटकॉइन ट्रेडिंग का कोई निर्धारित समय नहीं होता है। इसकी कीमतों में उतार-चढ़ाव भी बहुत तेजी से होता है।

बिटकॉइन जैसी वर्चुअल करेंसी में कभी भी भारी उतार-चढ़ाव देखने को मिल जाता है। पिछले 5 सालों में कई मौकों पर बिटकॉइन बिना कोई संकेत दिए ही 40-50 फीसदी गिर गया। 2013 में अप्रैल महीने में बिटकॉइन की कीमत एक ही रात में 70 फीसदी से अधिक गिरी थी। 233 डॉलर तक जा पहुंचा बिटकॉइन अचानक गिरकर 67 डॉलर पर आ गया। कई देशों में बिटकॉइन पर अभी भी ट्रेडिंग होती है, लेकिन इसमें निवेश करना बहुत ही खतरनाक साबित हो सकता है। बिटकॉइन की सबसे खराब बात ये है कि इसका अधिकतर इस्तेमाल हैकिंग, ड्रग्स सप्लाई और हथियारों के अवैध खरीद-फरोख्त जैसे कामों में होता है, जो गैरकानूनी है।

वैसे तो भारत में बिटकॉइन बैन है, लेकिन गुपचुप तरीके से यहां भी बिटकॉइन की ट्रेडिंग होती है। भारत में बिटकॉइन ट्रेडिंग को अपराध माना गया है। बिटकॉइन में निवेश करने वाले अमीर लोग वे हैं, जो इस ऑनलाइन करंसी के जरिए अपनी पूंजी को तेजी से बढ़ाना चाहते हैं। सरकार का कहना है कि उसके पास वर्चुअल करंसी का कोई डेटा नहीं है और इसलिए इसकी ट्रेडिंग में खतरा हो सकता है। रिजर्व बैंक ने भी बिटकॉइन पर सख्त हिदायत दी है।

क्या है Reliance Jio Coin , कैसे होगा यूज और क्या होंगे फायदे-नुकसान, जानिए खास बातें

रिलायंस जिओ अब अपनी खुद की बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी Jio Coin मुद्रा लाने की तैयारी कर रही है। मुकेश अंबानी के बड़े बेटे आकाश Reliance Jio Coin प्रोजेक्ट की टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। इस ब्लॉकचेन तकनीक पर काम करने के लिए 50 युवा प्रोफेशनलों की टीम बनाई जा रही है। बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी को लेकर युवाओं में काफी क्रेज है। एक सर्वे के मुताबिक भारत में Cryptocurrency के 6 लाख से ज्यादा सक्रिय ट्रेडर्स हैं। वहीं, 25 लाख लोगों ने देशभर की 9 क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंजों में खुद को पंजीकृत करा रखा है। ऐसे में अब रिलायंस जिओ कॉइन काफी चौंकाने वाला है। हम आपको बता रहे हैं जिओ कॉइन के बारे में कुछ खास बातें.

Reliance JioCoin

क्या है जिओ कॉइन क्रिप्टोकरेंसी (Reliance Jio Coin Cryptocurrency)
क्रिप्टोकरेंसी एक विकेंद्रीकृत डिजिटल मुद्रा है जिसका अर्थ यह होता है कि मुद्रा किसी केंद्रीय बैंक द्वारा नहीं संचालित होती। इसको कंप्यूटर नेटवर्किंग पर आधारित भुगतान के लिए ही बनाया जाता है। इसका जीता जागता और पहला उदाहरण बिटकॉइन मुद्रा है। ठीक इसी तरह से जिओ कॉइन का निर्माण किया जाएगा और यह भी कंप्यूटरीकृत मुद्रा/आभासी मुद्रा होगी जिसको आप छू और देख नहीं सकेंगे, केवल यूज ही कर सकेंगे।

ऐसे यूज कर सकेंगे JioCoin
Reliance JioCoin सामूहिक संगणक जाल पर पारस्परिक भुगतान हेतु कूट-लेखन द्वारा नवीन मुद्रा होगी जिसको अंकीय प्रणाली से बनाया जा रहा है और इसको अंकीय पर्स में ही रखा जा सकता है। यह आभासी मुद्रा पूर्णतया खुला भुगतान तंत्र होगा। यह डिजिटल करेंसी केवल इलेक्ट्रॉनिकली स्टोर होती है। आप JioCoin से आम मुद्रा की तरह ही सामान खरीद सकते हैं और इसको लगभग सभी ई—कॉमर्स वेबसाइट्स स्वीकार करेंगी। JioCoin से आप प्लेन की टिकट, होटल रूम, इलेक्ट्रॉनिक्स, कार, कॉफी और किसी अन्य चीजें खरीदकर उसका पेमेंट कर सकेंगे।

JioCoin के ये होंगे फायदे
अभी आम डेबिट /क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करने में जहां शुल्क देना होता है वहीं, जिओकॉइन में ऐसा कुछ नहीं होगा। इसके लेनदेन करने पर कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं लगेगा। इस वजह से यह लोकप्रिय हो सकता है। इसके अलावा यह फास्ट और सिक्योर भी होगा। आपको बता दें कि क्रेडिट कार्ड की तरह ही जिओ कॉइन में भी कोई क्रेडिट लिमिट नहीं होगी। न ही इसको नगदी की तरह लेकर घूमने की समस्या रहेगी। इसमें खरीदार की पहचान का खुलासा किए बिना पूरे जिओ कॉइन नेटवर्क के प्रत्येक लेन देन के बारे में पता किया जा सकेगा। बिटकॉइन की तरह ही यह भी दुनिया में कहीं भी कारगर और प्रचलित होगी जिसकी कोई सीमा नहीं होगी।

क्रिप्टोकरेंसी और करेंसी में ये होता है फर्क
दुनिया के हर देश में अपनी मुद्रा (Currency) का अपना अपना नाम और वैल्यू रहती है। प्रत्येक देश में उस देश की मुद्रा (Currency) का नाम होता है भारतीय मुद्रा को रुपए कहा जाता है वहीं, अमरीका मुद्रा को डॉलर। इनको हम देख, छू सकते हैं साथ में लेकर भी घूम सकते हैं। लेकिन क्रिप्टोकरेंसी इन्टरनेट की एक डिजिटल मुद्रा है वर्चुअल यानी अदृश्य है। इसका सीधा सा उदाहरण बिटकॉइन है। इसके मूल्य का भी अलग—अलग देशों की प्रचलित मुदा की तुलना में किया जाता है। अभी जहां 1 बिटकॉइन की कीमत करीब Rs 67712.20 है, ठीक उसी तरह से जिओ कॉइन का भी मूल्य निर्धारित किया जाएगा।

चेतावनी/नोट
आपको बता दें कि रिलायंस जिओ ने अपनी जिओ कॉइन का सिर्फ ऐलान किया है और इसके यूज और प्रचलन के बारे में भी कुछ नहीं कहा है। पत्रिका डॉट कॉम आपको सिर्फ क्रिप्टोकरेंसी के प्रचलन, उसका यूज, फायदे और नुकसान के बारे में अपना व्यू बता रहा है की जिओ कॉइन भी ऐसे ही काम कर सकती है। गौरतलब भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा 24 दिसम्बर 2013 को वर्चुअल मुद्राओं के सम्बन्ध में एक प्रेस जारी कर कहा गया था कि ऐसी मुद्राओं के लेन-देन को कोई अधिकारिक अनुमति नहीं है और इनका लेन-देन करने में कई स्तर पर जोखिम है। इसके बाद फरवरी 2017 और 5 दिसम्बर 2017 को भी रिजर्व बैंक ने पुन: इनके बारे में चेतावनी जारी की थी।

रेटिंग: 4.28
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 368
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *